खरबूजों को संतरे बनाने का आयुर्वेदिक तरीका

खरबूजों को संतरे बनाने का आयुर्वेदिक तरीका

 महिलाओं के ढीले बड़े अंगों को किसी भी उम्र में संतरे जैसा आकर देकर सुंदर व टाइट करने का 15 दिन में असरदार आयुर्वेदिक तरीका

किसी भी महिला की सुंदरता महिलाओं के अग्रभाग पर स्थित वक्षस्थल से होती है एक पुरुष पुरुष होने से पहले शिशु अवस्था में इसी स्थान से दूध पीकर पोषण प्राप्त करता है किन्तु आयु के बढ़ने पर अन्य महिलाओं के वक्षस्थल के आकर्षण में उलझता रहता है यह प्राकृतिक है.



 ढीलेपन का कारण-

शादी के कुछ समय बाद स्तनपान व अन्य कारणों से महिलाओं के स्तनों का आकार खराब हो जाता है अब यह पहले जैसे सुंदर व आकर्षक नहीं रहते अत्यधिक ढीले लटकते हुए संतरे भी पुरूषों को बेहतर स्पर्श का अहसास नहीं दे पाते.

आयुर्वेदिक उपाय-

एक ऐसा आयुर्वेदिक नुस्खे की जानकारी आपके साथ सांझा किया जा रहा है जो मात्र 15 दिन में ही असर दिखाकर ढीले वक्षस्थल को सुंदर व टाइट बना देते है और ये बहुत आसान है.


यह किस उम्र तक उपयोगी है-

यह आयुर्वेदिक नुस्खा 60 साल की आयु की किसी भी महिला के स्तनों पर आसानी से कार्य करती है क्योंकि स्तनों की ग्रंथियों में इस उम्र के बाद बदलाव होना मुश्किल होता है क्योंकि 60 साल की आयु के बाद स्तनों में वसा का निर्माण बंद हो जाता है 

आप इसे घर पर भी बना सकते हैं तथा ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं पोस्ट के अंत में लिंक दिया गया है

सामग्री -

इसके लिए आपको बहुत ज्यादा भारी भरकम महंगी चीजों की कोई आवयश्कता नहीं पड़ेगी आपको चाहिए बस 

1.   4 चम्मच मैथी दाना 

2.    8 चम्मच नारीयल का तेल 

मैथीदाना को साफ करके मिक्सी में दरदरा इस प्रकार पीस लें कि एक दाने के 3 टुकड़े हो जाएं 

अब एक गहरे बर्तन में 8 चम्मच नारियल का तेल गरम करें आप नारियल के तेल की जगह जैतून का तेल भी उपयोग कर सकते हैं 

तेल गर्म हो जाने पर दाना मैथी के टुकड़ों को गर्म तेल में डाल दें इसे तब तक फ्राई करें जब तक कि मैथी का रंग हल्का भूरा ना हो जाएं 

अब इस तेल को ठंडा करके अपने हाथों की उंगलियो डुबोकर अपने स्तनों पर नीचे से ऊपर तक मसाज करें ऐसा 15 दिन तक करें साइज में बदलाव जरूर आएगा

ऑनलाइन मिलने वाला 



https://amzn.to/3oYGPrV


अगर आप इसे ऑनलाइन बना बनाया खरीदना चाहते हैं तो नीचे दिए या ऊपर दिए लिंक पर क्लिक करें ये भी उतना ही फायदेमंद है 




एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ